Nutricharge Bio Age Benefits - Ingredients, Price

Nutricharge Bio Age क्या है ? Rcm Nutricharge Bio Age Benefits, Ingredients, Price, MRP, Business Volume क्या - क्या है और इसका उपयोग कैसे करें?

Nutricharge Bio Age Benefits - Ingredients, Price

आज हम बात करने जा रहे हैं Nutricharge Bio Age की, हम जानेंगे आखिर किस प्रकार यह हमारे लिए लाभदायक है। हम बात करेंगे इस RCM के बेहतरीन उत्पाद के बारे में जानेंगे कि खूबियों और गुणों को विस्तार से साथ में हम बात करेंगे Nutricharge Bio Age Benefits कि, कि यह किस प्रकार हमारे शरीर और सेहत के लिए लाभदायक है।

आइए अब हम बात करेंगे कि यह Nutricharge Bio Age है क्या और इसे किस लिए बनाया गया है। 

What is Nutricharge Bio Age

Nutricharge Bio Age 53 प्राकृतिक जड़ी-बूटियों के साथ फोर्टिफाइड है जो हमारे जिगर को शराब के हानिकारक प्रभावों से बचने में मदद करता है और हमारे शरीर को साफ थे करता है। इसमें पाचन स्वास्थ्य को बहाल करने के लिए 3 प्री और प्रोबायोटिक और 16 एंजाइम भी शामिल हैं। लीवर एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है और 500 से अधिक कार्यों के लिए जिम्मेदार है।

 लिवर शरीर का रासायनिक कारखाना है और विभिन्न स्रोतों से हमारे शरीर में प्रवेश करने वाले विषाक्त पदार्थों को हटाकर शरीर को डिटॉक्स करता है। पाचन एंजाइम खाद्य पदार्थों के उचित पाचन में सहायक होते हैं जबकि प्रोबायोटिक आंत के स्वास्थ्य में सुधार करते हैं।

Nutricharge Bio Age को खासतौर पर लीवर के लिए बनाया गया है। यह उत्पाद लीवर की कार्यक्षमता और उसे हानिकारक तत्वों से बचाता है।लीवर हमारे शरीर का एक अहम अंग है जो हमारे शरीर में खाने को पचाने खाने के सारे पोषक तत्वों को ग्रहण करने में मदद करता है। हमारे शरीर को ठीक ढंग से सुचारू रूप से कार्य करने के लिए लीवर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Rcm Business New Product Price List, Click Here

Nutricharge Bio Age में अनेकों प्रकार के बायोग्रीन हैं जो लीवर के लिए काफी हद तक लाभकारी है। इस बियोग्रीन की चर्चा हम आगे खुलकर करेंगे। यह बायोग्रीन लीवर की कार्यक्षमता और उसे हानिकारक तव्वो से बचाते है। खासतौर पर यह शराब के आदि हो चुके लोगों के लिए हैं। क्योंकि शराब ही एक ऐसा पदार्थ है जो लीवर को काफी क्षति पहुंचती है।

Nutricharge Bio Age Price

इस RCM product का मूल्य सिर्फ 1500 रुपए है और इसे इसे आप नजदीकी RCM pickup center से प्राप्त कर सकते हैं। बात करते हैं उसकी पैकिंग कि तो यह आप एक डिब्बे में प्राप्त होगा जिसके अंदर आपको दवाई जैसे कैप्सूल मिलेंगे और यह संख्या में 30 कैप्सूल होंगे यानी कि पूरे महीने का कोर्स।

आइए हम अब कुछ जानकारी लीवर के बारे में भी प्राप्त कर लेते हैं जिससे हमें आगे Nutricharge Bio Age की कार्यक्षमता को समझने में आसानी होगी। आइए जानते है कि लीवर है क्या और यह किस प्रकार हमारे शरीर में कार्य करता है। 

Nutricharge Bio Age Benefits For Liver

यकृत या जिगर या कलेजा शरीर का एक अंग है, जो केवल कशेरुकी (Vertebrates) प्राणियों में पाया जाता है। इसका कार्य विभिन्न चयापचय को साफ करना प्रोटीन को संश्लेषित करना और पाचन के लिए आवश्यक जैव रासायनिक बनाना है। मनुष्यों में यह पेट के दाहिने-ऊपरी हिस्से में डायाफ्राम के नीचे स्थित होता है 

और मानव शरीर की शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि है जो पित्त (Bile) का निर्माण करती है। पित्त, यकृती वाहिनी उपतंत्र (Hepatic duct system) तथा पित्त वाहिनी (Bile duct) द्वारा ग्रहणी (Duodenum) तथा पित्ताशय (Gall bladder) में चला जाता है। पाचन क्षेत्र में अवशोषित आंत्र रस के उपापचय (metabolism) का यह मुख्य स्थान है।

इसके निचले भाग में नाशपाती के आकार की थैली होती है जिसे पित्ताशय कहते है। यकृत द्वारा स्रावित पित्त रस पित्ताशय में ही संचित होता है। चयापचय में इसकी अन्य भूमिकाओं में ग्लाइकोजन भंडारण का विनियमन, लाल रक्त कोशिकाओं का अपघटन और हार्मोन का उत्पादन शामिल है।

Liver Fuctions

  • ग्लूकोज से बनने वाले ग्लाइकोजन को संग्रहित करता है। आवश्यकता होने पर, ग्लाइकोजन ग्लूकोज में परिवर्तित होकर रक्त धारा में प्रवाहित हो जाता है जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है।
  • पचे हुए भोजन से वसाओं और प्रोटीनों को संसाधित करने में मदद करना।
  • रक्त का थक्का बनाने के लिये आवश्यक प्रोटीन की आवश्यकता होती है जिसका नाम है फाइब्रिनोजेन को बनाने में लीवर मदद करता है।
  • विषहरण (डीटॉक्सीफिकेशन) में अहम भूमिका निभाता है। शरीर से सारे हानिकारक तत्वों को शरीर के बाहर निकलता है मूत्र और मल के द्वारा।
  • भ्रूणीय अवस्था में यह रक्त (खून) बनाने का काम भी करता है जब महिला गर्भवती होती है तो उसमें खून की कमी अक्सर आ जाती है तो इसी कमी को पूरा करने के लिए लीवर खून बनाने में मदद करता है।
  • Bile salt और Bile pigment का स्रवण करता है यह बिल जूस फैट और प्रोटीन को पचाने में मदद करते हैं।
  • रक्त से bilirubin को अलग करता है bilirubin लाल रक्त कणिकाओं के साथ बनता है जो कि लीवर में जा कर अवशोषित हो जाता है और हमें शुद्ध रक्त प्राप्त होता है।
  • गैलेक्टोज को ग्लूकोज में परिवर्तित करता है।
  • कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन को वसा में परिवर्तित करता है ।

यह थे लीवर के महत्त्वपूर्ण कार्य अब हम बात करेंगे Nutricharge Bio Age में मौजूद बायोग्राफी कि, जानेंगे कि यह किस किस कार्य को करने में समर्थ हैं:-

Nutricharge Bio Age Ingridients

Nutricharge Bio Age में वैसे तो अनेकों प्रकार के पोषक तत्त्व मौजूद है लेकिन इसमें ख़ास तरह के बायोग्रीन मौजूद है जो लीवर के लिए एक औषधि के रूप में कार्य करते हैं आइए जानते हैं उन्हें बियोग्रीन्स के बारे में:-

Milk Thistle

सिलिबम (मिल्क थीस्ल) डेज़ी परिवार में दो प्रजातियों की एक प्रजाति है। पौधे यूरोप के भूमध्यसागरीय क्षेत्रों अफ्रीका और मध्य पूर्व में पाए जाते हैं।कई सदियों के से मिल्क थीस्ल के अर्क को "यकृत टॉनिक" के रूप में मान्यता दी गई है।

 मिल्क थिस्ल की थैलियों से लीवर पर सुरक्षात्मक प्रभाव पड़ता है और इसके कार्य में सुधार होता है। इसका उपयोग आम तौर पर लीवर सिरोसिस, क्रोनिक हेपेटाइटिस (जिगर की सूजन), अमोनिया फालोइड्स (गंभीर मौत 'मशरूम विषाक्तता), और पित्ताशय की थैली विकारों से जिगर की गंभीर क्षति की रोकथाम सहित विष-प्रेरित यकृत क्षति के इलाज के लिए किया जाता है।

Sea Buckthorn

यह पौधा हिमाचल प्रदेश और उत्तरांचल में पाया जाने वाला औषधि का भंडार है। इस रसीले फल का इतिहास बहुत ही पुराना है। इसका सेवन करने से कई गंभीर बीमारियां जैसे कैंसर, डायबिटीज से निजात मिल जाता है।  

इस रसीले फल का इतिहास बहुत ही पुराना है। इसका सेवन करने से कई गंभीर बीमारियां जैसे कैंसर डायबिटीज से निजात मिल जाता है। आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि यह दुनिया का ऐसा एकलौता फल है। जिसमें ओमेगा 7 फैटी एसिड पाया जाता है।

सी-बक्थोर्न में भरपूर मात्रा में ओमेगा फैटी एसिड 3, 6,7 और 9 होते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाया जाता है। इसके अलावा इसमें विटामिन सी, ई, अमीनो एसिड, लिपिड, बीटा कैरोटीन, लाइकोपीन के अलावा प्रोविटामिन, खनिज और बायोलॉजिकल एक्टिव तत्व पाए जाते है। यह इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए एक बेहतरीन फल है।

Dandelion

सिंहपर्णी( dandelion) की जड़ लिवर के लिए स्वास्थ्य में लाभकारी है जो विश्व-भर में प्रचलित हैं। यह औषधि एक बहुत ही प्रभावशाली लिवर-टॉनिक है। सिंहपर्णी की जड़ लिवर में एकत्रित वसा का चयापचय कर लिवर के कार्यों को उत्तेजित करती है। यह लीवर से निकलने वाला बाइल यानी कि पीले रंग के रस के प्रवाह को बढाती है और लिवर को डिटाक्सफाय भी करती है।

Cumin

जीरा यह हर घर में प्रयोग में लाया जाता है। यह पाचन क्रिया को सुदृढ बनता है और अपच को दूर करता है। आयुर्वेद में जीर एकी अलग ही भूमिका रही है। जीरा खाने के स्वाद को बढ़ाने हेतु काम में लाया जाता है लेकिन कई लोग इसका उपयोग स्वास्थ्यवर्धक कार्यों में भी करते हैं। यह लीवर में होने वाली क्रियाओं को और तेज करता है जिस से लीवर अधिक क्रियाशील हो जाता है और पाचन क्रिया सुदृढ़ हो जाती है।

Artichoke

आर्टिचोक एक वनस्पति है, जिसकी कली का इस्तेमाल किया जाता है। इसे फ्रेंच आर्टिचोक के नाम से भी जाना जाता है। इसमें कई सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। इसका सेवन सेहत के लिए गुणकारी माना जाता है। डॉक्टर कैंसर हृदय रोग जैसी बीमारियों में आर्टिचोक खाने की सलाह देते हैं।

यूरोप अमेरिका और भारत में इसका अधिक इस्तेमाल होता है। लोग आर्टिचोक को सब्जी और सलाद में सेवन करते हैं।आर्टिचोक शरीर में मौजूद टॉक्सिन को बाहर निकालने में मदद करता है। इसके सेवन से पाचन तंत्र मजबूत होता है। जबकि पेट संबंधी सभी विकार दूर हो जाते हैं। इसके लिए नियमित रूप से आर्टिचोक का सेवन करना चाहिए।

Aloevera

एलोवेरा का पौधा छोटा होता है जिसके पत्ते मोटे, गूदेदार होते हैं और यह चारों तरफ लगे होते हैं। एलोवेरा के पत्ते के आगे का भाग नुकीला होता है और इसके किनारों पर हल्के कांटे होते हैं। पत्तों के बीज से फूल का दंड मिलता है जिस पर पीले रंग के फूल लगे होते हैं।

इसकी अधिक मात्रा पेट को साफ करने वाला है। उचित मात्रा में सेवन करने से मल एवं वात की समस्‍याएं ठीक होने लगती हैं।इससे लीवर मजबूत हो जाता है और सही तरह से काम करता है

Aegle Marmelos

Aegle Marmelos (ऐगले मार्मेलॉस) जीवाणु संक्रमण, मधुमेह, सूजन, कैंसर, जारणकारी तनाव, सूक्ष्मजीवी संक्रमण, फफुंदीय संक्रमण, दिल के रोग और अन्य स्थितियों के उपचार के लिए उपयोग किया जाता है।

क्या आप जानते हैं Nutricharge Man के क्या क्या फायदे हैं, जानने के लिए यहाँ पर क्लिक करें 

Emblica Officinalis

आंवला / आमला (Emblica officinalis) के पारम्परिक उपयोग पारम्परिक उपयोग है इसके फल, बीज, फूल, पत्ते, छाल और जड़ें औषधीय रूप से उपयोग की जाती हैं। यह विटामिन c का एक महत्त्वपूर्ण स्त्रोत है। यह लीवर के रासायनिक क्रियाओं को मजबूती प्रदान करता है।

Azadirachta Indica

नीम त्वचा के औषधीय कार्यों में उपयोग की जाती है । नीम के उपयोग से त्वचा की चेचक जैसी भयंकर बीमारिया नही होती तथा इससे रक्त शुद्ध होता है । नीम स्वास्थ वर्धक एवं आरयोग्यता प्रदान करने वाला है। ये सभी प्रकार की व्याधियों को हरने वाला है, इसे मृत्यु लोक का कुल्पवृक्ष कहा जाता है। चरम रोग मे इसका विशेष महत्व है।

यह मधुमेह में अत्यधिक लाभकारी है। इसका प्रयोग शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए किया जाता है। यह जीवाणु नाशक, रक्त्शोधाक एवं त्वचा विकारों में गुणकारी है। यह बुखार में भी लाभकारी है।

भारत में नीम का उपयोग एक औषधि के रूप में किया जाता है, आज के समय में बहुत सी एलोपैथिक दवाइयां नीम की पत्ती व उसकी छल से बनती है । नीम के पेड़ की हर अंग फायदेमंद होता है, बहुत सी बीमारियों का उपचार इससे किया जाता है । भारत में नीम का पेड़ घर में लगाना शुभ माना जाता है ।

नीम स्वाद में कड़वा होता है, लेकिन नीम जितनी कड़वी होती है, उतनी ही फायदे वाली होती है । यहां हम आपको नीम के गुण और उसके लाभ के बारे में बता रहे हैं । जिसे आप घर में ही उपयोग कर बहुत बीमारियों का उपचार कर सकते हैं ।

Curcuma Longa

हल्दी (टर्मरिक) भारतीय वनस्पति है। यह अदरक की प्रजाति का 4-6 फुट तक बढ़ने वाला पौधा है जिसमें जड़ की गाठों में हल्दी मिलती है। हल्दी को आयुर्वेद में प्राचीन काल से ही एक चमत्कारिक द्रव्य के रूप में मान्यता प्राप्त है।

हल्दी और करक्यूमिन (इसके घटकों में से एक) का विभिन्न मानव रोगों और स्थितियों के लिए कई नैदानिक ​​परीक्षणों में अध्ययन किया गया है।

Ocimum Sanctum

तुलसी (ऑसीमम सैक्टम) एक द्विबीजपत्री तथा शाकीय, औषधीय पौधा है। यह झाड़ी के रूप में उगता है और 1 से 3 फुट ऊँचा होता है।

भारतीय संस्कृति में तुलसी को पूजनीय माना जाता है, धार्मिक महत्व होने के साथ-साथ तुलसी औषधीय गुणों से भी भरपूर है। आयुर्वेद में तो तुलसी को उसके औषधीय गुणों के कारण विशेष महत्व दिया गया है। तुलसी ऐसी औषधि है जो ज्यादातर बीमारियों में काम आती है। इसका उपयोग सर्दी-जुकाम, खॉसी, दंत रोग और श्वास सम्बंधी रोग के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है।

यह थे Nutricharge Bio Age में शामिल बायोग्रिन्स अब हम बात करेंगे Nutricharge Bio Age benefits की जानेंगे यह किस प्रकार हमारे लिए लाभ दायक है आइए:-

Benefits of Nutricharge Bio Age

वैसे तो इस Rcm Nutricharge Bio Age के अनेकों फ़ायदे हैं लेकिन आज हम आपको इसके कुछ विशेष फायदों के बारे में अवगत करवाएंगे आइए :-

न्यूट्रीचार्ज बायो ऐज में Milk Thistle बायो ग्रीन शराब पिने वालो लोगो के लिवर को विषैले पदार्थो के जमाव से बचाता है और श्रतिग्रस्त लिवर कोशिकाओं ( cells ) की मरम्मत करता है। यह विषैले पदार्थो को लिवर की कोशिकाओं में अंदर जाने से रोकता है। और लिवर को फैटी होने से बचता है। लिवर फैटी होना लिवर ख़राब होनी की पहली अवस्था होती है।

Nutricharge Bio Age को विडिओ में देखने के लिए यहाँ पर क्लिक करें

पेट में गैस बनना, बार बार पेट ख़राब होना, पाचन तंत्र में दिक्कत, यह सब लिवर से सम्बंधित होते है। अगर लिवर सही तरीके से काम करे तो ऐसे परेशानिया नहीं होती। न्यूट्रीचार्ज बायो ऐज में Sea-Buckthorn, Dandelion और cumin जैसे बायोग्रीन्स इन सब विकारो से बचाता है।

aegle marmelos और azadirachta indica जोकि बायोग्रीन है रक्त का शुद्दिकरण करने के लिए और रक्त का सर्कुलेशन के लिए जिम्मेदार होता है। यह लिवर को फ्री रेडिकल्स ( जो शरीर में कोशिकाओं को नष्ट करते है ) से बचाता है। लिवर के स्वास्थ्य को बढ़ाता है और लिवर रोगो से रक्षा करता है। aegle marmelos पाचन के लिए भी बहुत मत्वपूर्ण है।

जैसे की हम पहले जान चुके है की लिवर का डेटॉक्स कार्य कितना जरुरी होता है। न्यूट्रीचार्ज बायो ऐज में artichoke बायोग्रीन्स विषैले पदार्थो को शरीर से बहार निकलता है। यह जहरीले तत्वों को पेशाब द्वारा निकलता है और लिवर की कार्यशीलता को बढ़ाता है। यह एंटी-ऑक्सीडेंट्स गुणों का पावर हाउस है।

अलोएवेरा बायो ग्रीन पूर्ण रूप से पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है। लगातार प्रयोग से अलोएवेरा शरीर में अपशिष्ट और जहरीले पदार्थो को निकल फेकता है। जिससे गट ( आंतो ) स्वस्थ रहता है। अलोएवेरा एंटी-ऑक्सीडेंट्स तत्वों से भरपूर है जो लिवर को हानिकारक रसायनो से बचाता है।

Nutricharge Bio Age Uses

  • हर दिन लंच या डिनर के आधे घंटे बाद एक ग्लास पानी के साथ न्यूट्रीचार्ज बायोएज का एक कोटेड टैबलेट लें।
  • इस Nutricharge Bio Age का उपयोग निम्नलिखित ही करें:-
  • शराब या तंबाकू का सेवन करने वाले लोग
  • 50 साल और उससे अधिक उम्र के लोग
  • पाचन तंत्र या यकृत की समस्याओं से पीड़ित लोग।

Conclusion

यह थी Rcm Nutricharge Bio Age के बारे में संपूर्ण जानकारी हमें आशा है आपको इस जानकारी से लाभ मिला होगा और आप इसे अपने सगे संबंधियों और मित्रों के साथ जरूर साझा करें और अपने परिवार में जरूरतमंद को Nutricharge Bio Age का सेवन जरूर करवाएं।

FAQ About Nutricharge Bio Age

Q.1 Nutricharge bioage का सेवन कैसे करें ?

दोपहर के भोजन के बाद या फिर रात के खाने के बाद एक टैबलेट रोजाना एक गिलास पानी के साथ लेना चाहिए।

Q.2 Side Effects of Nutricharge Bioage

Nutricharge bioage टैबलेट के किसी भी प्रकार का कोई साइड इफेक्ट नहीं है। यह 100% प्रतिशत क्लीनिकल अप्रुवन टैबलेट है।  यह एक प्रकार का फूड सुप्लालिमेंट हैं ना कि किसी प्रकार की मेडिसिन। इस लिए  इसके कोई  साइड इफेक्ट नहीं होता है।

Q.3 Nutricharge Bio Age को  कौन ले सकता है ?

Nutricharge Bio Age को कोई भी महिला या पुरुष, 14 साल से अधिक उम्र के बच्चे ले सकते हैं जिनको लीवर और पाचन क्रिया से संबधित कोई बीमारी है। साथ ही शराब पीने वाले व्यक्ति को जरूर लेना चाहिए। 

Nutricharge bioage tablet  की कीमत 1500 रुपए पर पैकेट है जिसमें 30 टैबलेट होती हैं एक महीने की खुराक।

Nutricharge bioage आप आरसीएम पिक अप स्टोर से खरीद सकते हैं।

उम्मीद करते हैं आपको benefits of nutricharge bioage  समझ आ गए होंगे। जिससे आपको यह प्रोडक्ट का सेवन करने में या सेल करने में आसानी होगी।